google-site-verification=-VGM-Rzk6kl_v8sOYCBX_WVpFVkN_yRoR1esnzQuS6U आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन 2022: ABHA Number बनाए, डाउनलोड ABHA App ?

Search Bar

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन 2022: ABHA Number बनाए, डाउनलोड ABHA App ?


One Nation One Health Card | पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन | PM Modi Health ID Card Form | आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन | Ayushman Bharat Digial Health ID Card Registration


आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन


जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा डिजिटल इंडिया मिशन का शुभारंभ किया गया था  इस मिशन के अंतर्गत विभिन्न प्रकार की सेवाओं एवं सुविधाओं का डिजिटलीकरण किया जा रहा है। सरकार द्वारा हेल्थ सेक्टर को भी डिजिटल करने का निर्णय लिया गया है। जिसके लिए सरकार ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ किया है। इस मिशन के अंतर्गत प्रदेश के नागरिकों का डाटाबेस तैयार किया जाएगा। जिसके माध्यम से प्रदेश के नागरिक अपना उपचार करवा पाएंगे। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से Health ID Card से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि इसका उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों यदि आप आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का लाभ उठाना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।


Digital Health ID Card 2022

हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 15 अगस्त 2020 को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन लांच करने की घोषणा की गई थी। जिसके पश्चात देश के 6 केंद्र शासित प्रदेशों में मिशन मोड में इस मिशन को आरंभ किया गया था। 27 सितंबर 2021 को इस योजना का पूरे देश के लिए शुभारंभ कर दिया गया है। इस योजना के माध्यम से देश के नागरिकों का स्वास्थ्य रिकॉर्ड का डाटाबेस तैयार किया जाएगा। नागरिकों को एक Health ID Card प्रदान की जाएगी।

  • इस Health ID Card में नागरिकों का हेल्थ डाटाबेस स्टोर होगा। इस डाटाबेस को डॉक्टरों द्वारा नागरिकों की सहमति से देखा जा सकेगा। डेटाबेस में नागरिकों के स्वास्थ्य से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां जैसे कि परामर्श, रिपोर्ट आदि डिजिटल स्टोर की जाएंगी।
  • अब देश के नागरिकों को अपना मेडिकल रिकॉर्ड भौतिक रूप से रखने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसके अलावा इस मिशन के माध्यम से सभी अस्पतालों एवं डॉ की जानकारी स्टोर की जाएगी। अब देश के नागरिक देश के किसी भी डॉक्टर से घर बैठे परामर्श भी प्राप्त कर सकेंगे। यह योजना स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए कल्याणकारी बदलाव लाएगी।



आरोग्य सेतु एप से किया जा सकेगा आयुष्मान भारत डिजिटल अकाउंट क्रिएट

सरकार द्वारा आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट क्रिएट करना अब सरल कर दिया गया है। आपके द्वारा आरोग्य सेतु एप का उपयोग करके आयुष्मान भारत स्वास्थ्य खाता बनाया जा सकता है। इसके अलावा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की नोडल एजेंसी राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने दोनों के इंटीग्रेशन का ऐलान किया है। लगभग 21.4 करोड़ यूज़र आरोग्य सेतु एप पर एक्टिव हैं जो अपना आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट नंबर जनरेट कर सकेंगे। यह नंबर 14 अंको का होगा। उपयोगकर्ता अपने पुराने और नए मेडिकल रिकॉर्ड को इस नंबर से लिंक कर सकते हैं। यह सभी रिकॉर्ड रजिस्टर्ड हेल्थ प्रोफेशनल एवं हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर के साथ शेयर किए जाएंगे।

इस अकाउंट पर नागरिक की पूरी मेडिकल हिस्ट्री उपलब्ध होगी। यह अकाउंट खोलने का तरीका बहुत सरल है। रजिस्ट्रेशन के समय यूजर अपना आधार नंबर के जरिए ऑथेंटिकेशन कर सकता है। जिससे नाम, जन्मतिथि, लिंग व पता जैसी जानकारी फेच होगी। यदि आप आधार के जरिए आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट नहीं बनवाना चाहते तो ड्राइविंग लाइसेंस या मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करके भी आप यह अकाउंट खुलवा सकते हैं। इस अकाउंट में डॉक्टर के प्रिसक्रिप्शन, लैब रिपोर्ट, हॉस्पिटल रिकॉर्ड आदि सेव की जा सकती है।

मेडिकल हिस्ट्री अनुमति से ही की जाएगी एक्सेस

सभी रिकॉर्ड को कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है। अपने डॉक्टर को आपको पूरी मेडिकल हिस्ट्री बताने के लिए अपनी यह आईडी बतानी होगी। इस आईडी के माध्यम से आपका डॉक्टर आपका रिकॉर्ड देख सकेगा। किसी भी हेल्थ केयर सेंटर या डॉक्टर के जानकारी एक्सेस करने के लिए ओटीपी की आवश्यकता होगी। जिसका तात्पर्य यह है कि आप की अनुमति के बिना आपका मेडिकल डाटा कोई और एक्सेस नहीं कर सकेगा। आप अपने आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट कार्ड को डाउनलोड भी कर सकते हैं। इस कार्ड में एक क्यू आर कोड होता है जिसे स्कैन करके ओटीपी वेरीफिकेशन के बाद सारा रिकॉर्ड देखा जा सकता है। इसके अलावा इस कार्ड ने डेमोग्राफिक लोकेशन, फैमिली समेत कई अन्य जानकारियां भी शामिल है। इस कार्ड में एक तरह से मरीज का पूरा ब्यौरा स्टोर किया जा सकता है।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की की गई समीक्षा

29 सितंबर 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन कार्यक्रम की समीक्षा की गई। इस कार्यक्रम को सभी नागरिकों तक डिजिटल स्वास्थ्य आईडी प्रदान करने के उद्देश्य से आरंभ किया गया है। इस डिजिटल आईडी में स्वास्थ्य रिकॉर्ड का पूरा विवरण उपस्थित होगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर डिजिटल हेल्थ आईडी का राष्ट्रीय व्यापी रोल आउट किया गया है। इस योजना को 15 अगस्त 2020 को आरंभ किया गया था। अब तक यह योजना पायलट आधार पर संचालित की जा रही थी। इस योजना के अंतर्गत एक लाख से अधिक स्वस्थ आईडी बन चुकी है।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ

27 सितंबर 2021 को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ किया जाएगा। इस मिशन को आरंभ करने का कार्यक्रम सुबह 11:00 बजे से प्रधानमंत्री कार्यालय से आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री जी के द्वारा देश के नागरिकों को संबोधित भी किया जाएगा। इस योजना के पायलट प्रोजेक्ट की घोषणा 15 अगस्त 2020 को की गई थी। इस समय इस कार्यक्रम को 6 केंद्र शासित प्रदेशों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में संचालित किया जा रहा है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की तीसरी वर्षगांठ पर इस मिशन का राष्ट्रीय रोलआउट किया जा रहा है। इस योजना को राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा संचालित किया जाएगा।


आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के कॉम्पोनेंट्स

हेल्थ आईडी

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत नागरिकों को एक Health ID Card भी प्रदान की जाएगी। इस आईडी के माध्यम से व्यक्तियों की पहचान करके उनको प्रमाणित करने में एवं उनके स्वास्थ्य रिपोर्ट को कई प्रणालियों एवं हित धारकों तक पहुंचाया जाएगा। यह आईडी बनाने के लिए नागरिकता कुछ बुनियादी विवरण एकत्रित किया जाएगा।

हेल्थ प्रोफेशनल रजिस्ट्री

इस कंपोनेंट के अंतर्गत सभी हेल्थ प्रोफेशनल को पंजीकृत किया जाएगा। जिससे कि उनका डेटाबेस तैयार किया जा सकेगा। इस प्रक्रिया से हेल्थ प्रोफेशनल्स भारत के डिजिटल हेल्थ इको सिस्टम से जुड़ सकेंगे।

हेल्थ फैसिलिटी रजिस्ट्री

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के हेल्थ फैसिलिटी रजिस्ट्री के कॉम्पोनेंट के अंतर्गत सभी अस्पतालों, क्लिनिको, प्रयोगशालाओं, इमेजिन केंद्रों, फार्मेसी आदि को पंजीकृत किया जाएगा। जिससे कि सभी हेल्थ फैसिलिटी को भारत के डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र से जोड़ा जा सके।

हेल्थ रिकॉर्ड्स

इस अभियान के अंतर्गत सभी नागरिकों के हेल्थ रिकॉर्ड का एक डाटाबेस तैयार किया जाएगा। इस हेल्थ रिकॉर्ड को नागरिक जब चाहे जहां चाहे इस्तेमाल कर सकेगा। हेल्थ रिकॉर्ड में मरीज की चिकित्सा से संबंधित सभी जानकारी स्टोर की जाएगी जैसे कि परामर्श, टेस्ट की रिपोर्ट आदि।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन स्टैटिसटिक्स

हेल्थ आईडी1557334
हेल्थ फैसिलिटीज अप्रूव्ड1540
डॉक्टर अप्रूव्ड3208


आरोग्य मंथन 3.0 के अंतर्गत प्रदान की गई आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन से संबंधित जानकारियां

  • 15 अगस्त 2020 को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन लांच करने की घोषणा हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा की गई थी।
  • यह योजना हेल्थ सेक्टर में एक महत्वपूर्ण कल्याणकारी बदलाव लाने में कारगर साबित होगी।
  • इस अभियान को 6 केंद्र शासित प्रदेशों में मिशन मोड में आरंभ किया गया था।
  • केंद्र शासित प्रदेश में इस योजना के सफल कार्यान्वयन के बाद इस पूरे देश में लांच करने की घोषणा 27 सितंबर 2021 को की गई।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत उपयोगकर्ता का स्वास्थ्य रिकॉर्ड सुरक्षित रूप से संग्रहित किया जाएगा।
  • पहले नागरिकों के पुराने हेल्थ रिकॉर्ड्स खो जाते हैं
  • थे जिसकी वजह से वह सही परामर्श प्राप्त करने में सक्षम नहीं हो पाते थे।
  • अब सभी हेल्थ रिकॉर्ड डिजिटल फॉर्मेट में स्टोर होने की वजह से अपनी सुविधा अनुसार नागरिकों को उपलब्ध करवाए जाएंगे।
  • यह योजना डिजिटल रिवोल्यूशन का एक ऐसा डायमेंशन है जिसका लाभ देश का हर नागरिक उठा सकेगा।
  • इसके अलावा यह योजना नागरिकों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में भी कारगर साबित होगी।
  • स्वास्थ्य प्रोफेशन एवं सुविधाओं को भी एक प्लेटफार्म से इस योजना के माध्यम से जोड़ा जाएगा। जिससे कि देश की जनता बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं का चयन कर सके।
  • इस योजना के कार्यान्वयन से इंक्लूसिव हेल्थ केयर सुनिश्चित होगा।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन से एक ऐसा सिस्टम तैयार किया गया है जिसके माध्यम से मरीज को डॉक्टर से कंसल्ट करने के लिए भौतिक रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। मरीजों का उनके घर से ट्रीटमेंट किया जा सकेगा।
  • इस योजना की सफलता के लिए सभी हितग्राहियों को एक साथ आना होगा।
  • इस योजना के माध्यम से नागरिकों को एक Health ID Card प्रदान की जाएगी जिसमें उनका पूरा हेल्थ रिकॉर्ड्स स्टोर होगा।
  • उपचार कराने के लिए देश के नागरिक को किसी पेपर वर्क, रसीद या किसी दूसरे व्यक्ति पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा।
  • इस योजना को पहले चरण में 6 केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया गया था। जो कि अंडमान निकोबार, पुडुचेरी, दादर एंड नगर हवेली दमन एंड दिउ, लक्षदीप, लद्दाख एवं चंडीगढ़ है।
  • हेल्थ आईडी कार्ड में स्टोर किया गया डाटा पूरी तरह से गोपनीय होगा।
  • इस अभियान के माध्यम से प्रदेश के नागरिक विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं से भी जुड़ सकेंगे।
  • गरीब एवं मध्यम वर्ग के इलाज में होने वाली दिक्कतों को भी इस योजना के माध्यम से दूर किया जा सके।
  • टेक्नोलोजी के माध्यम से पूरे देश के अस्पतालों को डिजिटल माध्यम सर connect भी किया जा सकेगा।
  • देश के पिछड़े इलाकों में रहने वाले नागरिक भी Health ID Card के माध्यम से अच्छे से अच्छे डॉक्टर से अपने घर बैठे ट्रीटमेंट प्राप्त कर सकेंगे।
  • इस योजना के माध्यम से समय से डॉक्टर तक मरीज का पूरा हेल्प रिकॉर्ड पहुंचाया जा सकेगा।
  • इमरजेंसी की स्थिति में यह योजना बहुत कारगर साबित होगी।



आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का उद्देश्य

  • आधुनिक डिजिटल स्वास्थ्य प्रणाली स्थापित करना।
  • कोर डिजिट अस्वास्थ्य डाटा का प्रबंधन करना।
  • स्वास्थ्य रिकॉर्ड के आदान-प्रदान के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा विकसित करना।
  • परिभाषित मानकों के अनुसार आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के साथ एकीकरण सुनिश्चित करके मौजूदा स्वास्थ्य सूचना प्रणाली को मजबूत बनाना।
  • स्वास्थ्य देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करना।
  • सभी स्तरों पर शासन की दक्षता एवं प्रभावशीलता बढ़ाना।
  • स्वास्थ्य विभाग का बेहतर प्रबंधन करना जिससे कि स्वास्थ्य डेटा का विश्लेषण और चिकित्सा अनुसंधान किया जा सके।
  • नैदानिक निर्णय समर्थन प्रणालियों का उपयोग को बढ़ावा देना।
  • स्वास्थ्य सेवाओं के प्रावधान में नेशनल पोटेबिलिटी सुनिश्चित करना।
  • यह सुनिश्चित करना कि निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य देखभाल संस्था एवं पेशेवर आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के निर्माण में सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ सक्रिय रूप से भाग ले।
  • सभी राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य धारकों द्वारा मानकों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड की एक प्रणाली बनाना जिससे कि स्वास्थ्य पेशावरो एवं सेवा प्रदाताओं को मरीज से संबंधित जानकारी प्राप्त हो सके।

One Nation One Health Card 2022 क्या है?

इस मिशन के अंतर्गत प्रधानमंत्री जी द्वारा पीएम Health ID Card की घोषणा की गई है। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक रोगी को एक आईडी कार्ड दिया जाएगा। जिस पर उसका सारा मेडिकल डाटा डिजिटल स्टोर होगा। जैसे कि उसकी प्रशिक्षण, रिपोर्ट, डिस्चार्ज से संबंधित जानकारी आदि। जिसकी वजह से अब पेशेंट को अपना इलाज करवाने के लिए भौतिक रिपोर्ट ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। पेशेंट का सारा डाटा इस हेल्थ आईडी कार्ड में स्टोर होगा और पीएम मोदी Health ID Card 2022 के माध्यम से डॉक्टर पेशेंट का सारा डाटा देख पाएंगे। इस योजना के अंतर्गत अस्पताल क्लीनिक तथा डॉक्टर सभी एक केंद्रीय सरवर से जुड़े होंगे। इस योजना के अंतर्गत Health ID Card लेने वाले नागरिकों को एक यूनीक आईडी दी जाएगी जिसके माध्यम से वह सिस्टम में लॉगिन कर सकेंगे। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा 500 करोड़ का बजट निर्धारित किया गया है।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के लाभ

  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के माध्यम से समग्र रूप से स्वास्थ्य सेवाओं वितरण की दक्षता, प्रभावशीलता एवं पारदर्शिता में उल्लेखनीय सुधार किया जा सकेगा।
  • मरीज अपने मेडिकल रिकॉर्ड को सुरक्षित रूप से स्टोर एवं एक्सेस कर सकेगा एवं रिकॉर्ड को उचित उपचार प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं के साथ साझा कर सकेगा।
  • इस योजना के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाओं एवं सेवा प्रदाताओं के बारे में भी अधिक सटीक जानकारी प्राप्त हो सकेगी।
  • इसके अलावा वह टेली परामर्श और ई फार्मेसी के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ भी प्राप्त कर सकेंगे।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के माध्यम से सार्वजनिक एवं निजी दोनों स्वस्थ सेवाओं का विकल्प प्रदान किया जाएगा। जिसके अंतर्गत निर्धारित दिशानिर्देशों एवं प्रोटोकॉल के माध्यम से नागरिकों तक सुविधा प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के माध्यम से हेल्थ केयर प्रोफेशनल को मरीज की मेडिकल हिस्ट्री के बारे में जानकारी प्राप्त हो सकेगी। जिससे कि मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा प्रदान की जा सकेगी। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से दावों की प्रक्रिया को डिजिटल बनाना और तेजी से प्रतिपूर्ति को सक्षम करने में भी मदद प्राप्त होगी।
  • इसके अलावा नीति निर्माताओं एवं कार्यक्रम प्रबंधकों के पास डाटा की बेहतर पहुंच होगी। जिससे कि सरकार को विभिन्न प्रकार के निर्णय लेने में सहायता प्राप्त होगी। इसके अलावा भूगोल एवं जनसंख्या आधारित निगरानी और स्वास्थ्य कार्यक्रम एवं नीतियों के कार्यान्वयन करने में भी सहायता प्राप्त होगी।
  • शोधकर्ता भी अध्ययन एवं मूल्यांकन करने में सक्षम हो सकेंगे।
  • इसके अलावा यह योजना शोधकर्ताओं, नीति निर्माताओं एवं प्रदाताओं के बीच एक व्यापक फीडबैक लूट की सुविधा प्रदान करेगी।

आयुष्मान भारत स्वस्थ अकाउंट से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का उद्देश्य देश के एकीकृत डिजिटल स्वस्थ बुनियादी ढांचे का समर्थन तथा विकास करना है।
  • वह सभी नागरिक जो आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं और अपने स्वास्थ्य रिकॉर्ड को डिजिटल रूप से उपलब्ध करवाना चाहते हैं उनको आयुष्मान भारत स्वस्थ खाता बनाना होगा। आयुष्मान भारत स्वस्थ अकाउंट एक 14 अंकिए नंबर है जिसके माध्यम से लाभारतीयों की पहचान की जा सकती है एवं उनके स्वास्थ्य डांटा को स्टोर किया जा सकता है।
  • PHR पता एक स्वघोषित उपयोगकर्ता नाम है जो स्वास्थ्य सूचना विनिमय और सहमति प्रबंधक में साइन इन करने के लिए आवश्यक है।
  • आयुष्मान भरत स्वस्थ खाता आधिकारिक वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करवा कर प्राप्त किया जा सकता है। इसके अलावा ऐप के माध्यम से भी प्राप्त किया जा सकता है।
  • आयुष्मान भारत स्वस्थ खाता मोबाइल नंबर के माध्यम से खुलवाने के के लिए मोबाइल नंबर, नाम, जन्मतिथि, लिंग, पता, मोबाइल नंबर होना अनिवार्य हैं। आयुष्मान भारत स्वस्थ खाता आधार नंबर से खुलवाने के लिए नाम, जन्मतिथि, लिंग, पता, मोबाइल नंबर तथा आधार नंबर होना अनिवार्य है।
  • स्वास्थ खाता खुलवाने के लिए आधार कार्ड होना अनिवार्य नहीं है।
  • यदि आपका आधार नंबर आप के मोबाइल नंबर से लिंक नहीं है तो आप नजदीकी पार्टिसिपेटिंग फैसिलिटी में जा सकते हैं एवं आधार नंबर से बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन करवा सकते हैं। जिसके पश्चात आपको आयुष्मान भारत स्वास्थ अकाउंट प्रदान कर दिया जाएगा।
  • आयुष्मान भारत स्वस्थ अकाउंट नंबर प्रत्येक लाभार्थी के लिए यूनिक होगा। लाभार्थी द्वारा सभी हेल्थ रिकॉर्ड्स को इस अकाउंट नंबर से लिंक किया जा सकता है।
  • लाभार्थी एक से ज्यादा आयुष्मान भारत स्वस्थ खाते भी बनवा सकता है।
  • स्वायत्त रिकॉर्ड खाते के पंजीकरण करने में 10 मिनट में से भी कम का समय लगता है। क्योंकि नागरिको द्वारा केवल अपना मूल विवरण ही भरना होता है और अपना मोबाइल नंबर या आधार नंबर प्रमाणित करना होता है।
  • आयुष्मान भारत स्वस्थ  अकाउंट में पंजीकरण करवाने के लिए आपको किसी भी प्रकार के दस्तावेज जमा करने की आवश्यकता नहीं है। इस अकाउंट में आपका स्वास्थ रिकॉर्ड सुरक्षित रहता हैं।

आपकी राय

दोस्तों यह था मेरा आर्टिकल। अगर आपको मेरी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप इससे अपने दोस्तों के साथ साँझा जरूर करे। और मुझे कमेंट करके भी जरूर बताये। अगर आपको किसी को भी कुछ भी पूछना हो तो भी कमेंट कर सकते है में पूरी कोशिश करूंगा आपके प्र्शन के उत्तर देने की।

Post a Comment

0 Comments